EXCLUSIVE: पाकिस्‍तान से तनाव के लिए मोदी सरकार जिम्‍मेदार- इमरान खान

0
66

नई दिल्ली/इस्लामाबाद: पड़ोसी देश पाकिस्तान में कल (25 जुलाई को) आम चुनाव होने जा रहे हैं. ऐसे में पिछले दो महीने से चल रहा चुनाव प्रचार अब समाप्त हो गया है. यह चुनाव कई मायनों में अलग है. एक ओर इस चुनाव में भारत और कश्मीर के मुद्दे छाए रहे, वहीं दूसरी ओर राजनीतिक पार्टियां भारतीय पीएम नरेंद्र मोदी के नाम पर भी वोट मांगती नजर आईं. इस बीच जी मीडिया के सहयोगी चैनल WION को दिए एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) पार्टी के प्रमुख इमरान खान भारत और पाकिस्तान के बीच बिगड़े रिश्ते का ठीकरा मोदी सरकार के सिर फोड़ते नजर आए. हालांकि उन्होंने कहा कि अगर उनकी पार्टी चुनाव जीतती है तो भारत के साथ अच्छे रिश्ते कायम करने की पहल करेगी. पेश हैं इंटरव्यू के खास अंश…

बातचीत के दौरान क्रिकेटर से राजनेता बने इमरान खान ने कहा कि पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था खोखली हो चुकी है. देश कर्ज तले दबा हुआ है. उन्होंने खराब अर्थव्यवस्था, भ्रष्टाचार और बेरोजगारी के लिए पिछली सरकारों को जिम्मेदार ठहराया. इमरान खान ने कहा कि अगर उनकी पार्टी चुनाव जीतती है तो सबसे पहले वह देश में बुनियादी सुविधाओं को दुरुस्त करेगी.

मोदी सरकार पर साधा निशाना
बात-चीत के दौरान पीटीआई प्रमुख ने भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव के लिए मोदी सरकार को जिम्मेदार ठहराया. इंटरव्यू के दौरान इमरान खान भी पाकिस्तानी आर्मी की भाषा बोलते नजर आए. उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का नाम लेते हुए कहा कि इस सरकार के कार्यकाल के दौरान रिश्ते बदतर हुए हैं. मोदी सरकार की पाकिस्‍तान विरोधी आक्रामक नीतियों की वजह से दोनों सरकारों के बीच रिश्‍ते सहज नहीं रहे. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान सभी के साथ अच्छे रिश्ते कायम रखना चाहता है. भारत के साथ रिश्ते सुधरने से पाकिस्तान को कारोबार के लिए बड़ा बाजार मिलेगा जिससे दोनों मुल्कों को फायदा होगा.

चुनाव में कश्मीर का मुद्दा अहम
कश्मीर के मुद्दे पर बात करते हुए पीटीआई प्रमुख ने कहा कि कश्मीर का मुद्दा दोनों देशों के बीच बढ़ते तनाव का कारण है. उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं है कि पाकिस्तान सरकार ने रिश्ते बेहतर करने के लिए पहल नहीं की. लेकिन जब तक कश्मीर का मुद्दा नहीं सुलझता आपसी रिश्तों में कड़वाहट बरकरार रहेगी.

यह भी पढ़ें: पाकिस्तान में थमा चुनाव प्रचार, नवाज और इमरान की पार्टी के बीच कड़ा मुकाबला

आरोपों को किया खारिज
वहीं दूसरी तरफ, पिछले दिनों कई राजनीतिक पार्टियों ने ISI और आर्मी पर चुनाव में तहरीक-ए-इंसाफ का साथ देने के आरोप लगाए. इस पर इमरान खान ने कहा कि इस चुनाव में भी ISI का उतना ही दखल है जितना कि पहले होता आया है. हालांकि उन्होंने यह मानने से इनकार किया कि उनकी पार्टी को आर्मी और ISI का साथ मिला हुआ है. उन्होंने कहा कि नवाज शरीफ यह आरोप लगा रहे हैं क्योंकि कोर्ट और आर्मी ने उनकी पार्टी का साथ नहीं दिया.

इमरान खान को जबरदस्त समर्थन
65 वर्षीय नेता इमरान खान को आर्मी का समर्थन है या नहीं यह कहना तो मुश्किल है लेकिन उन्हें पाकिस्तान की अवाम सहित सितारों और पूर्व क्रिकेटरों का खूब समर्थन मिला है. ऐसे में पाकिस्तान की सत्ता पर कौन राज करेगा और जनता किस पार्टी को बाहर का रास्ता दिखाएगी यह तो नतीजे आने के बाद ही साफ हो पाएगा. ऐसे में चुनाव और आने वाले नतीजों पर पूरी दुनिया की नजर बनी हुई है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here