सुरेश रैना ने खोला राज, कब आता है ‘कैप्टन’ कूल को गुस्सा

0
68

नई दिल्ली: महेंद्र सिंह धोनी को हमेशा ही एक शांत खिलाड़ी माना जाता है. उनके हाव-भाव हमेशा शांत मिजाजी का ही परिचय देते हैं. जब वह टीम इंडिया के कप्तान थे तब भी कभी किसी ने उन्हें टेंपर लूज करते नहीं देखा होगा, इसलिए उन्हें क्रिकेट में ‘कैप्टन कूल’ की उपाधि मिली हुई थी. अब आईपीएल 2018 में भी चेन्नई की कप्तानी करते हुए भी वह हमेशा कूल ही बने रहते हैं. हां, कभी-कभी मैदान पर स्लो होने के कारण धोनी किसी फील्डर पर जरुर गुस्सा करते हैं. हाल ही में दक्षिण अफ्रीका दौरे पर पूरी दुनिया उस समय हैरान रह गई थी जब धोनी ने मनीष पांडे को टी-20 मैच में एक संभावित रन न लेने के लिए जमकर डांटा था.

अब चेन्नई की टीम रिकॉर्ड तीसरी बार आईपीएल खिताब जीतने के लिए बढ़ रही है. शायद इसलिए आईपीएल 2018 के दौरान भी महेंद्र सिंह धोनी कभी-कभी धैर्य खोते दिखाई पड़ते हैं. आईपीएल 2018 में धोनी यह बात लगातार देखते रहे हैं कि उनकी टीम की फील्डिंग मजबूत नहीं है. अंबाती रायडू, शेन वॉटसन, महेंद्र सिंह धोनी और सुरेश रैना बल्लेबाजी में शानदार प्रदर्शन कर रहे हैं, लेकिन टीम को मिली कुछ हार की वजह गेंदबाजी और खराब फील्डिंग को माना जा रहा है.

महेंद्र सिंह धोनी कई मौकों पर टीम की फील्डिंग और गेंदबाजी से प्रभवित नहीं दिखाई पड़ते. एक मैच के दौरान राजस्थान से मिली हार के बाद धोनी को गेंदबाजों पर गुस्सा करते देखा गया था. गेंदबाज गलत लाइन और लेंथ पर गेंद फेंक रहे थे. धोनी को गुस्सा आया, क्योंकि गेंदबाज फील्ड के अनुसार गेंदबाजी नहीं कर रहे थे. इस मैच के दौरान धोनी एक बार तो इतना नाराज हो गए थे कि उन्होंने गुस्से में गेंद ही फेंक दी थी.

महेंद्र सिंह धोनी को करीब से जानने वाले उन्हीं की टीम के साथी खिलाड़ी सुरेश रैना का कहना है, ”उनका कप्तान चाहता है कि इस आईपीएल में उनकी टीम कम से कम गलतियां करे. उनका लक्ष्य तीसरी बार खिताब जीतना है. मैदान पर अक्सर मुस्कान के साथ दिखने वाले धोनी को उस समय गुस्सा आता है जब गेंदबाज या फील्डर लगातार गलतियां करते हैं.”

सुरेश रैना ने बताया, ”गेंदबाजों को हर बार पूरी योजना बताई जाती है. उन्हीं उसी के हिसाब गेंदबाजी करनी होती है. एक प्रोफेशन खिलाड़ी होने के नाते उन्हें यह पता होना चाहिए कि कैसे इस योजना को एक्जीक्यूट करना है. धोनी इसलिए खिलाड़ियों से कहते हैं, तुम्हें अपना खेल सुधारने की जरुरत है. खासतौर पर जब गेंदबाज अतिरिक्त रन देते हैं.”

जब दक्षिण अफ्रीका में मनीष पांडे पर फूटा था महेंद्र सिंह धोनी का गुस्सा

बता दें कि 2016-17 में महेंद्र सिंह धोनी अलग फ्रैंचाइजी के लिए खेले थे, लेकिन वह कभी ऐसे लीडर नजर नहीं आए जैसे चेन्नई के लीडर के रूप में नजर आते हैं. इस बात धोनी का इरादा चेन्नई को तीसरी बार खिताब दिलाने का है और वह इसी दिशा में आगे बढ़ रहे हैं. आईपीएल 2018 में अबतक 13 मैच खेल चुकी चेन्नई ने 8 में जीत हासिल की जबकि 5 बार उसे हार का सामना करना पड़ा है. चेन्नई 16 अंकों के साथ अंकतालिका में दूसरे नंबर पर है.

वहीं, अगर महेंद्र सिंह धोनी की बात करें तो आईपीएल के इस सीजन में उनका प्रदर्शन भी काफी शानदार रहा है. महेंद्र सिंह धोनी अब तक 13 मैचों में 430 रन बना चुके हैं. वह अबतक 29 छक्के और 22 चौके लगा चुके हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here