सुप्रीम कोर्ट ने बाबरी मस्जिद-राम जन्मभूमि विवाद की सुनवाई 14 मार्च तक टाली

0
53

सुप्रीम कोर्ट बाबरी मस्जिद-राम जन्मभूमि विवाद मामले में अपनी सुनवाई 14 मार्च तक रोक दी है. न्यूज 18 के मुताबिक शीर्ष अदालत ने मामले से जुड़े कागजात तैयार न होने और उनके अनुवाद का काम पूरा न होने की वजह से सुनवाई टाली है. गुरुवार को चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा, जस्टिस एस अब्दुल नजीर और जस्टिस अशोक भूषण की पीठ ने कहा कि वह इस मामले को पूरी तरह ‘जमीन का विवाद’ मानकर ही सुनवाई करेगी और जब सुनवाई शुरू होगी तो वह लगातार चलेगी.

रिपोर्ट के मुताबिक सुप्रीम कोर्ट ने बाबरी मस्जिद-राम जन्मभूमि विवाद से जुड़े सभी पक्षकारों से दो हफ्ते के भीतर इलाहाबाद हाई कोर्ट के सामने रखे गए दस्तावेजों का अंग्रेजी अनुवाद मांगा है. सुप्रीम कोर्ट को इलाहाबाद हाई कोर्ट के फैसले को चुनौती देने वाली 13 याचिकाओं पर सुनवाई करनी है. 2010 में हाई कोर्ट की लखनऊ बेंच ने 2.77 एकड़ की विवादित भूमि को तीन हिस्सों में बांट दिया था और सुन्नी वक्फ बोर्ड, निरमोही अखाड़ा और राम लला को इसमें बराबर का हिस्सेदार माना था.

इससे पहले पांच दिसंबर 2017 को सुप्रीम कोर्ट ने अधिवक्ता कपिल सिब्बल की इस मांग को खारिज कर दिया था कि राजनीतिक रूप से संवेदनशील इस मामले की सुनवाई अगले साल आम चुनाव के बाद की जाए. इसके अलावा कपिल सिब्बल ने सात सदस्यीय संवैधानिक बेंच द्वारा इस मामले की सुनवाई किए जाने की मांग की थी. लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने उनकी यह मांग भी नहीं मानी थी.

इस बीच बाबरी मस्जिद-राम जन्मभूमि विवाद को बातचीत से सुलझाने की भी कोशिशें भी हुई हैं. पिछले दिनों ऑर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक श्री श्री रविशंकर इस विवाद से जुड़े सभी पक्षों से मुलाकात की थी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here