रणवीर सिंह हैं फिल्म के असली हीरो, ज़रूर देखें भंसाली का ये ड्रीम प्रोजेक्ट

0
100

तमाम विरोध प्रदर्शन और विवादों के बाद आख़िरकार संजय लीला भंसाली की सबसे विवादास्पद फिल्म ‘पद्मावत’ को थियेटर पहुंचना नसीब हो ही गया. ये कहना ग़लत नहीं होगा की ये फिल्म संजय लीला भंसाली की अबतक की सबसे विवादास्पद फिल्म रही लेकिन संजय लीला भंसाली की हिम्मत को सलाम कि उन्होंने इतने विरोधाभास के बावजूद अपनी फिल्म को पर्दे पर लाकर ही दम लिया. आइए जानते हैं कि कैसी है संजय लीला भंसाली की दीपिका पाडुकोन, रणवीर सिंह और शाहिद कपूर जैसे सितारों से सजी इस साल की सबसे विवादास्पद फिल्म ‘पद्मावत’.

पद्मावत की कहानी सन् 1540 में लिखी गई सूफी कवि मलिक मोहम्मद जायसी की रचना पद्मावत पर आधारित है. मेवाड़ की महारानी पद्मिनी की सुंदरता और शौर्य इस रचना का आधार है. पद्मिनी मेवाड़ के राजा महारावल रतन सिंह की पत्नी हैं और उनकी सुंदरता और शौर्य के क़िस्सों से प्रभावित होकर दिल्ली का सुल्तान अलाउद्दीन ख़िलजी उनकी ज़िंदगी में तूफ़ान ले आता है.

कहानी- फिल्म की शुरुआत होती है तेरहवीं शताब्दी से जब खिलजी वंश का शासक जलालुद्दीन खिलजी यानी रज़ा मुराद अफ़गानिस्तान में बैठकर दिल्ली पर फतह पाने की योजना बना रहा है. उसी समय एंट्री होती है जलालुद्दीन के भतीजे अलाउद्दीन खिलजी यानी रणवीर सिंह की जो उनकी बेटी(अदिति राव हैदरी) से शादी कर लेता है.

जिसके बाद धोखे से अपने ही चाचा की हत्या कर वो दिल्ली का सुल्तान बन जाता है. वहीं दूसरी तरफ राजकुमारी पद्मिनी (दीपिका पादुकोन) और मेवाड़ के राजा महारावल रतन सिंह यानी शाहिद कपूर की मुलाकात होती है और वो एक दूसरे को दिल दे बैठते हैं. जिसके बाद दोनों की शादी हो जाती है.

इसी बीच, मेवाड़ के राज पुरोहित को देश निकाला दे दिया जाता है जिसका बदला लेने के लिए पुराहित राघव चेतन अलाउद्दीन के सामने जाकर पद्मिनी के सुंदरता का ऐसा बखान करता है कि खिलजी पद्मिनी की एक झलक पाने के लिए बेताब हो जाता है और इसी के चलते वो मेवाड़ के राजा को छल से अपना बंदी बना लेता है. इसके बाद मेवाड़ पर कई संकट आते हैं लेकिन राजपूताना की महारानी खिलजी के आगे नहीं झुकती और फिर क्या होता है ये जानने के लिए आपको फिल्म देखनी पड़ेगी.

क्यूं देखें –

बेहतरीन दृश्यों के लिए- संजय लीला भंसाली की फिल्म हो तो आप उम्मीद कर सकते हैं कि वो आपकी आंखों के लिए ये फिल्म एक बेहतरीन विजुअल ट्रीट हो सकती है.

पद्मावत में भव्यता और सुंदर दृश्यों का जमावड़ा आपको देखने के लिए मिलेगा.

ज़बरदस्त आर्टवर्क- इस फिल्म में भंसाली के एस्थेटिक सेंस का टच आपको हर सीन में देखने को मिलेगा. इस फिल्म का आर्टवर्क इतना बेहतरीन है कि आप 13वीं शताब्दी में पहुंच जाएंगे साथ ही हर सीन और उसकी डिटेलिंग कमाल की है.

रणवीर सिंह के लिए- आपको याद होगा कि करीब 25 साल पहले भी एक फिल्म आई थी जब कोई खलनायक नायक पर भारी पड़ा था. इस फिल्म का नाम था डर. ऐसा ही फिल्म पद्मावत में भी आपको देखने को मिलेगा जब रणवीर सिंह हर तरह से शाहिद कपूर पर भारी पड़े हैं.

रणवीर ने फिल्म में शानदार एक्टिंग की है. ये फिल्म रणवीर ने पूरी तरह अपनी बना ली है. उनकी एक्टिंग के आगे बड़े-बड़े धुरंधर इस बार फेल हो जाएंगे. खिलजी के किरदार के साथ रणवीर ने पूरा इंसाफ ही नहीं किया बल्कि उम्मीद से बेहतर पर्फोर्मेंस दी है.



उनके दमदार डायलॉग आपको फिल्म के बाद भी याद रह जाएंगे. रणवीर के साथ-साथ जिम सरभ भी अपनी परफोर्मेंस से आपका दिल जीतने में कामयाब होंगे.

दीपिका पादुकोन- रानी पद्मिनी के किरदार में दीपिका बिल्कुल खरी उतरी हैं. ऊपर से नीचे तक कपड़ों में ढकी दीपिका ने अपने चेहरे और आंखों के बल पर इतनी शानदार परफोर्मेंस दी है कि आप उनके फिर से फैन हो जाएंगे. इतना ही नहीं उन्होंने फिल्म में हर भाव और हर बात को अपनी आखों के माध्यम से बख़ूबी बयां किया है.

उनके भारी राजसी कपड़ों और गहनों की सभी महिलाएं फैन हो जाएंगी और उनकी सुंदरता सबका ध्यान अपनी ओर खीचने में कामयाब रही.

म्यूज़िक- संजय लीला भंसाली ने इस फिल्म में कोई कोर कसर बाक़ी नहीं छोड़ी. उन्होंने संगीत में भी कई अन्य फिल्मों को पीछे छोड़ दिया. घूमर और एक दिल एक जां गाना तो पहले ही से लोगों की ज़ुबां पर चढ़ चुका है लेकिन बाक़ी गाने भी लोगों का दिल छू लेंगे.

क्यूं ना देखें-




3डी की क्वालिटी- ‘पद्मावत’ 3डी में रिलीज़ हुई है. जिसके चलते इसकी क्वालिटी पर आपको शिकायत हो सकती है.

लेकिन फिर भी आप इस फिल्म के लिए इतनी छोटी सी कमी को नज़रअंदाज़ कर सकते हैं.

फिल्म की लंबाई- फिल्म इंटरवल से पहले काफी लंबी लगती है. अगर इसे और बेहतर तरीके से एडिट किया जाता तो ये और ज़्यादा मज़ेदार फिल्म होती.

बॉक्स ऑफिस पर उम्मीदें- फिल्म का बजट 180 करोड़ रुपये बताया जा रहा है. भारत में फिल्म को हिंदी, तमिल, तेलूगू भाषा में लगभग 7000 स्क्रीन्स में रिलीज किये जाने की बात कही गई है. अब देखना ये होगा कि फिल्म इस लॉन्ग वीकेंड में अपनी लागत का कितना हिस्सा बिज़नेस कर निकाल पाएगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here