मुश्फिकुर रहीम की आतिशी पारी, बांग्लादेश ने श्रीलंका को पांच विकेट से हराया

0
151

कोलंबो: मुश्फिकुर रहीम (नाबाद 72) की नाबाद शानदार पारी के दम पर बांग्लादेश को शनविार को निडास ट्रॉफी टूर्नामेंट में उसकी पहली जीत मिल ही गई. आर. प्रेमदासा स्टेडियम में खेले गए इस मैच में बांग्लादेश ने रहीम की बदौलत हारी हुई बाजी अपने नाम की और मेजबान श्रीलंका को उसी के घर में पांच विकेट से हराया दिया. टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी करते हुए श्रीलंका ने कुसल परेरा (74) और कुसल मेंडिस (57) की शानदार अर्धशतकीय पारी के दम पर निर्धारित 20 ओवरों में छह विकेट के नुकसान पर 214 रन बनाए. इस लक्ष्य को बांग्लादेश ने पांच विकेट के नुकसान पर 19.4 ओवरों में हासिल कर लिया.

लक्ष्य का पीछा करने उतरी बांग्लादेश ने पारी की शुरुआत अच्छी की थी. तमीम इकबाल (47) और लिटन दास (43) ने पहले विकेट के लिए 74 रनों की शानदार अर्धशतकीय साझेदारी की, लेकिन नुवान प्रदीप ने इस साझेदारी को आगे नहीं बढ़ने दिया. उन्होंने लिटन को पगबाधा कर मेहमान टीम का पहला विकेट गिरा दिया. इसके बाद, 100 के स्कोर पर थिसारा परेरा ने तमीम को पवेलियन का रास्ता दिखाया. बांग्लादेश ने अपना दूसरा अहम विकेट खो दिया. तमीम के आउट होने के बाद रहीम और सौम्य सरकार (24) ने बांग्लादेश की पारी को संभाला और 51 रनों की अच्छी अर्धशतकीय साझेदारी कर उसे लक्ष्य तक पहुंचाने की कोशिश की. इस कोशिश पर एक बार फिर नुवान ने पानी फेरा. उन्होंने सरकार को अपनी ही गेंद पर लपक कर बांग्लादेश का तीसरा विकेट भी गिरा दिया.

टीम इंडिया के ये धुरंधर कप्तान टी-20 में नहीं लगा पाए एक भी शतक

रहीम ने इसके बाद कप्तान महमुदुल्लाह (20) के साथ 42 रन जोड़ते हुए स्कोर 193 तक पहुंचा दिया. इसी स्कोर पर दुश्मंथा चमीरा ने महमुदुल्लाह को मेंडिस के हाथों कैच आउट करवाया. बांग्लादेश अपने लक्ष्य के करीब थी. एक समय पर उसे 10 गेंदों में 18 रनों की जरूरत थी और रहीम एकमात्र आस बनकर पिच पर टिके हुए थे. 197 के स्कोर पर सब्बीर रहमान बिना खाता खोले रन आउट हो गए.

रहीम पिच के एक छोर पर टीम की पारी संभाले हुए थे और उनकी बल्लेबाजी का नतीजा ही था कि बांग्लादेश को सात गेंदों में केवल 10 रन बनाने थे. विकेटकीपर रहीम ने अपनी अच्छी बल्लेबाजी के दम पर निर्धारित 20 ओवरों की समाप्ति के लिए बचीं दो गेंदों से पहले ही बांग्लादेश को 215 रनों के लक्ष्य तक पहुंचाकर उसे पहली जीत की सौगात दी. मुश्फिकुर ने 35 गेंदों का सामना कर पांच चौके और चार छक्के लगाए.

इस पारी में श्रीलंका के लिए नुवान ने सबसे अधिक दो विकेट लिए, चमीरा और थिसारा को एक-एक सफलता मिली. इससे पहले, श्रीलंका ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 56 के स्कोर पर दानुश्का गुनाथीलका (26) के रूप में अपना पहला विकेट गंवाया. उन्हें मुस्ताफिजुर ने बोल्ड किया. गुनाथीलका के पवेलियन लौटने के बाद मेंडिस और परेरा ने दूसरे विकेट के लिए 85 रनों की अर्धशतकीय साझेदारी कर टीम का स्कोर 141 तक पहुंचाया. इसी स्कोर पर कप्तान महमुदुल्ला की गेंद पर कुसल सब्बीर रहमान के हाथों लपके गए.

महमुदुल्ला ने 142 के स्कोर पर सब्बीर के ही हाथों दासुन शनाका पवेलियन की राह दिखाई. शनाका ने खाता भी नहीं खोल पाए थे. इसके बाद आए कप्तान दिनेश चंडीमल (2) भी सस्ते में निपट गए. उन्हें तस्किन अहमद की गेंद पर सब्बीर ने ही लपका. यहां कुसल के साथ उपुल थरंगा (नाबाद 32) ने टीम की कमान संभाली और 55 रनों की अर्धशतकीय साझेदारी कर टीम को 200 के पार पहुंचाया. मुस्ताफिजुर ने इस साझेदारी को आगे नहीं बढ़ने दिया. वह भी सब्बीर के हाथों कैच आउट होकर पवेलियन लौटे.

इसके बाद, 206 के स्कोर पर मुस्ताफिजुर ने थिसारा परेरा को खाता खोलने का मौका दिए बगैर नजमुल इस्लाम के हाथों कैच आउट कराया. थरंगा अब भी नाबाद थे. उन्होंने नाबाद रहते हुए श्रीलंका की पारी जीवन मेंडिस (नाबाद 6) के साथ निर्धारित ओवरों की समाप्ति तक बिना कोई विकेट गंवाए 214 के स्कोर तक पहुंचाई. इस पारी में बांग्लादेश के लिए मुस्ताफिजुर ने सबसे अधिक तीन विकेट लिए, वहीं महमुदुल्लाह को दो और तस्किन अहमद को एक सफलता मिली.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here