मई से एक सेकेंड में डाउनलोड होंगी 3 मूवी! ये है पूरी प्लानिंग

0
98

नई दिल्ली : भारत में जब 3G के बाद 4G आया तो लोगों की खुशी का ठिकाना नहीं रहा. हो भी क्यों न, लोगों को पहले से ज्यादा तेज इंटरनेट स्पीड जो मिली. लेकिन अब इस साल मई से भारत में संचार की दुनिया में बड़ा बदलाव होने जा रहा है. इस बदलाव के होने के बाद आप एक सेकेंड में एक-एक GB की तीन फिल्में डाउनलोड कर सकेंगे. इसके अलावा आपको केबल, डिश और इंटरनेट के तारों से भी आपको छुटकारा मिल सकता है. यह सब हकीकत में बदलेगा जीसैट-11 के लॉन्चिंग से. इस सैटेलाइट को फ्रांस की स्पेस एजेंसी एरियन लॉन्च करेगी.

अहमदाबाद स्पेस ऐप्लिकेशन सेंटर में तैयार हुआ
इसका वजन 5700 किलो है. इसका विकास इसरो के अहमदाबाद स्थित स्पेस ऐप्लिकेशन सेंटर ने किया है. यह भारत का अब तक का सबसे वजनी सैटेलाइट है. इस वजन के सैटेलाइट को लॉन्च करने की क्षमता न होने के कारण इसे छोड़ने के लिए इसरो ने एरियन से करार किया है. इसकी कामयाब लॉन्चिंग के बाद भारत के पास खुद का सैटेलाइट बेस्ड इंटरनेट भी हो जाएगा. इससे हमारी इंटरनेट स्पीड भी बढ़ जाएगी.

3 मिनट में बिके तीन लाख फोन, इस दिन फिर से शुरू होगी इस धांसू फोन की सेल

14 GB प्रति सेकेंड होगी रफ्तार
इस सैटलाइट की मदद से डेटा भेजे जाने की रफ्तार 14 GB प्रति सेकंड हो जाएगी. अभी देश में डाटा का संचार कुछ MB प्रति सेकंड की रफ्तार से होता है. इसकी मदद से देश के किसी भी कोने में इंटरनेट का इस्तेमाल करना आसान हो जाएगा. टीवी या इंटरनेट का इस्तेमाल करने के लिए इसके सिग्नल्स को एक डोंगल की मदद से हासिल किया जा सकेगा. जीसैट-11 प्रोग्राम को 2009 में सरकार की ओर से मंजूरी दी गई थी.

स्पेस में 3 सैटेलाइट भेजे जाएंगे
दरअसल यह इसरो के इंटरनेट बेस्ड सैटेलाइट सीरीज का हिस्सा है. इसका मकसद इंटरनेट स्पीड को बढ़ाना है. इसके तहत अंतरिक्ष में 18 महीने में तीन सैटेलाइट भेजे जाने हैं. पहला सैटेलाइट जीसैट-19 बीते साल जून में भेजा जा चुका है. जीसैट-11 को जल्द लॉन्च करने की तैयारी है. इसके बाद जीसैट-20 को साल के आखिरी तक भेजने की योजना है. ये तीनों मल्टीपल स्पॉट बीम टेक्नोलॉजी पर काम करेंगे.

13 अंकों का नहीं होगा आपका नया मोबाइल नंबर, ये है हकीकत

ऐसे बदलेगा इंटरनेट
इस क्लब से हमें बेहतर इंटरनेट स्पीड मिलेगी. इंटनेट कनेक्टिवटी सस्ती होगी. इसकी पहुंच पूरे देश तक होगी. इसके तहत बिना डिश लगाए टीवी प्रोग्राम देखे जा सकेंगे. इससे स्मार्टफोन की भी दुनिया बदल जाएगी. यह स्मार्ट सिटी के लिए जरूरी ट्रांसमिशन जितनी स्पीड है. इससे साइबर सुरक्षा मजबूत होगी. बैंकिंग सिस्टम को मजबूती मिलेगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here