भारत-इजरायल के बीच दोस्ती की नई शुरुआत, हुए 9 समझौते

0
112

इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने भारतीय दौरे के दूसरे दिन कहा कि हमारी दोस्ती में अब कुछ नया हो रहा है. हैदराबाद हाउस में पीएम मोदी और नेतन्याहू की हुई बैठक में भारत और इजरायल के बीच साइबर सुरक्षा, तेल और गैस क्षेत्र में सहयोग समेत नौ समझौते हुए.

नेतन्याहू ने पीएम मोदी का बताया क्रांतिकारी

इस बैठक में इजरायली पीएम ने प्रधानमंत्री मोदी को क्रांतिकारी नेता बताया और कहा कि यहूदियों को भारत ने हमेशा गले लगाया. इजरायली पीएम को उनके दौरे के दूसरे दिन राष्ट्रपति भवन में गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया. इसके बाद नेतन्याहू महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि देने राजघाट पहुंचे. राष्ट्रपति भवन में औपचारिक स्वागत सम्मान के बाद नेतन्याहू ने कहा कि उनका भारत दौरा बहुत अहम है.

पीएम मोदी “दोनों देशों के बीच फिल्म, स्टार्ट अप इंडिया, रक्षा और निवेश को लेकर सहमति बनी है. मैं उम्मीद करता हूं कि आनेवाले समय में दोनों देश मिलकर एक-दूसरे की तरक्की और दोनों देशों की जनता के लिए मिलकर काम कर सकेंगे.”



PM मोदी ने हिब्रू में किया स्वागत

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भाषण की शुरुआत हिब्रू में की. उन्होंने हिब्रू में स्वागत करते हुए कहा, “मेरे अच्छे दोस्त का भारत में स्वागत है. 25 साल की ये दोस्ती काफी अहम है. नेतन्याहू के भारत आने पर खुशी हुई.”

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रपति भवन में इजरायल के पीएम नेतन्याहू और उनकी पत्नी सारा का स्वागत किया. इसके बाद नेतन्याहू को गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया. गार्ड ऑफ ऑनर के बाद बेंजामिन ने पीएम मोदी की तारीफ की. उन्होंने कहा कि शांति और खुशहाली के लिए दोनों देशों की साझेदारी अहम है. उन्होंने कहा कि पीएम मोदी के इजरायल दौरे से हमारी दोस्ती शुरू हुई.

नेतन्याहू ने कहा, ‘पीएम मोदी के इजरायल दौरे से दोस्ती का ये सिलसिला शुरू हुआ, जिसने दोनों देशों के बीच संबंधों में उत्साह पैदा किया. ये दौरा मेरी पत्नी और मेरे साथ इजरायलवासियों के लिए काफी अहम है.’

पीएम मोदी ने प्रोटोकॉल तोड़कर किया था इजरायली पीएम का स्वागत

इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू रविवार को 6 दिनों के दौरे पर भारत पहुंचे हैं. पीएम नरेंद्र मोदी ने रविवार को प्रोटोकॉल तोड़कर अपने इजरायली समकक्ष बेंजामिन नेतन्याहू से गले मिलकर दिल्ली एयरपोर्ट पर पूरी गर्मजोशी से स्वागत किया था. इसके अलावा पीएम मोदी ने नेतन्याहू के लिए डिनर का भी आयोजन किया था. अब दौरे के दूसरे दिन सोमवार को दोनों नेताओं के बीच कई अहम मुद्दों पर बातचीत होगी.

इजरायली पीएम बेंजामिन नेतन्याहू के साथ पीएम नरेंद्र मोदी

इजरायली पीएम का दौरा इसलिए भी अहम माना जा रहा है, क्योंकि उनकी भारत यात्रा के दौरान दोनों देशों के बीच रक्षा, तेल, गैस, रिन्यूवेबल एनर्जी, एयरपोर्ट्स के लिए संशोधित प्रोटोकॉल, साइबर सुरक्षा और फिल्मों के निर्माण जैसे क्षेत्रों में कई एमओयू पर हस्ताक्षर होने की उम्मीद है.

भारत और इजरायल के बीच हो सकते हैं ये समझौते

  • इजरायल और भारत के बीच रक्षा और सुरक्षा के मुद्दे पर समझौता हो सकता है.
  • दोनों देशों के बीच तेल और गैस क्षेत्र में निवेश को लेकर समझौता हो सकता है.
  • रिन्यूवेबल एनर्जी में भारतीय कंपनियों को एडबांस्ड टेक्नोलॉजी देने को लेकर समझौता हो सकता है.
  • दोनों देशों के बीच एविएशन को लेकर भी समझौता हो सकता है.
  • जुलाई 2017 में पीएम मोदी के इजरायल दौरे के दौरान हुए साइबर सिक्‍योरिटी समझौते को और व्‍यापक बनाया जाएगा.
  • स्पेस रिसर्च और इंडस्ट्रियल रिसर्च को लेकर भी भारत और इजरायल के बीच दो नए समझौते हो सकते हैं.
  • भारत फिल्मों की शूटिंग को प्रोत्साहन देने को लेकर भी इजरायल के साथ समझौता करेगा.
  • निवेशकों को बढ़ावा देने को लेकर भी दोनों देशों के बीच समझौता हो सकता है.
  • इजरायली पीएम बेंजामिन नेतन्याहू के साथ पीएम नरेंद्र मोदी




    UN में एक वोट हमारे रिश्तों को नहीं बदल सकता:
    नेतन्याहू
    इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने भारत-इजरायल संबंधों को ‘स्वर्ग में बनी जोड़ी’ जैसा बताया. उन्होंने कहा कि संयुक्त राष्ट्र में यरूशलम मुद्दे पर भारत द्वारा इजरायल के खिलाफ वोट किए जाने से उनके देश को ‘निराशा’ हुई. लेकिन इससे दोनों देशों के संबंधों पर फर्क नहीं पड़ेगा.नेतन्याहू ने कहा कि उनको उम्मीद है कि उनकी भारत यात्रा से टेक्नोलॉजी, एग्रीकल्चर और दुनिया में परिवर्तन ला रहे अन्य क्षेत्रों में दोनों देशों के संबंध मजबूत होंगे.नेतन्याहू ने ‘इंडिया टुडे’ से एक इंटरव्यू में कहा, ‘‘हां, स्वाभाविक तौर पर हम निराश हुए, लेकिन यह यात्रा इस बात का प्रमाण है कि हमारे रिश्ते कई मोर्चों पर आगे बढ़ रहे हैं.”पिछले महीने भारत उन 127 देशों में शामिल था, जिन्होंने यरूशलम को इजरायल की राजधानी के रूप में मान्यता देने के अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के हालिया फैसले के खिलाफ संयुक्त राष्ट्र महासभा में लाये गए प्रस्ताव के पक्ष में मतदान किया था.

    नेतन्याहू ने कहा, ‘‘सबसे पहले तो दोनों देशों, उनके लोगों और नेताओं के बीच का संबंध विशेष है. भारत और इजरायल की साझेदारी स्वर्ग में बनी जोड़ी है जो धरती पर साकार हुई.’’नरेंद्र मोदी को ‘महान नेता’ बताते हुए नेतन्याहू ने कहा कि उनके भारतीय समकक्ष ‘अपने लोगों के भविष्य के लिए उत्सुक हैं।”

    [गणतंत्र दिवस से पहले आपके दिमाग में देश को लेकर कई बातें चल रही होंगी. आपके सामने है एक बढ़ि‍या मौका. चुप मत बैठिए, मोबाइल उठाइए और भारत के नाम लिख डालिए एक लेटर. आप अपनी आवाज भी रिकॉर्ड कर सकते हैं. अपनी चिट्ठी lettertoindia@thequint.com पर भेजें. आपकी बात देश तक जरूर पहुंचेगी]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here