पूर्वोत्तर में भारी बारिश की वजह से 17 की मौत, दिल्ली वालों को आज मिलेगी राहत

0
56

शनिवार को पूर्वोत्तर राज्यों में हुई भारी बारिश के बाद बाढ़ और भू-स्खलन के कारण 17 लोगों की मौत हो गई. दक्षिण पश्चिमी मानसून के पश्चिम बंगाल और ओडिशा के हिस्सों में पहुंच बढ़ाने की खबर है.

भारतीय मौसम विभाग ने अपनी डेली बुलेटिन में रविवार को दिल्ली में हल्की फुहार पड़ने की संभावना जताई है, जिससे शहर को राजस्थान की ओर से आ रही धूल और धुंध भरी हवाओं से राहत मिलने की उम्मीद है.

मौसम विभाग ने कहा कि मानसून पश्चिम में महाराष्ट्र और पूर्व में ओडिशा, पश्चिम बंगाल और असम में घूम रहा है. मौसम विभाग के अनुसार कमजोर पैर्टन के कारण अगले छह-सात दिनों तक मानसून का प्रसार असंभव है.

मौसम विभाग ने रविवार को कोंकण और गोवा के कुछ स्थानों पर अत्यधिक बारिश के साथ अंडमान एवं निकोबार द्वीप समूह, उत्तराखंड, अरुणाचल प्रदेश, असम, मेघालय, उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल, सिक्किम, मध्य महाराष्ट्र और तटीय कर्नाटक के कुछ स्थानों पर भारी बारिश होने का अनुमान लगाया है.

असम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के अनुसार पिछले 24 घण्टों में बाढ़ और भू-स्खलन जैसी घटनाओं से राज्य में 4 लोगों की मौत हो गई. मिजोरम में एक व्यक्ति की मौत की खबर है.

अधिकारी ने बताया कि पूर्वोत्तर में मरने वालों की संख्या बढ़कर 17 हो गई है.

मौसम विभाग के अनुसार राजस्थान के कुछ हिस्सों में धूल भरी आंधी अथवा बिजली कड़कने के साथ तेज हवाएं चल सकती हैं. इस हफ्ते धूल भरी आंधी चलने से पश्चिमी भारत में धूल की मोटी परत छाई रही और दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र में अल्ट्रा-फाइन प्रदूषण के स्तर में वृद्धि हुई.

राजस्थान में धूल भरी आंधी चलने की वजह से शनिवार को बीकानेर से दिल्ली जाने वाली फ्लाइट को रद्द करना पड़ा.

दिल्ली में वायु प्रदूषण की स्थिति में सुधार जरुर हुआ है लेकिन इसकी स्थिति अब भी गंभीर बनी हुई है. शहर में रविवार को हल्की बारिश होने तक निर्माण कार्यों पर रोक लगा दी गई है.

पंजाब, हरियाण और चंढीगढ़ में भी बारिश की वजह से धूल की परत हट गई. दोनों राज्यों में हवाई सेवा फिर से शुरू हो गई है. बारिश की वजह से दोनों राज्यों में अधिकतम तापमान भी नीचे गिर गया. बारिश के बाद धान के उत्पादकों ने रुपाई के लिए अपने खेतों को तैयार करना शुरू कर दिया है.

रविवार को पूर्वी और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के भी कुछ हिस्सों में हल्की बारिश और तूफान आने की संभावना है. बता दें कि राज्य के वाराणसी, इलाहाबाद, कानपुर और मुरादाबाद डिवीजनों में दिन का तापमान सामान्य से अधिक दर्ज किया जा रहा है.

ओडिशा में मानसून के चलते सैलानियों के लिए सिमिलिपल टाइगर रिजर्व (एसटीआर) बंद कर दिया गया है. 2,750 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला एसटीआर अपनी विविध वनस्पतियों, जीवजंतुओं, रॉयल बंगाल टाइगर और लुभावने झरनों की वजह से देश और विदेश के आगंतुकों को लुभाता है.

राज्य शिक्षा विभाग के एक अधिकारी ने भुवनेश्वर में कहा कि ओडिशा सरकार ने अधिक गर्मी के कारण ग्रीष्मकालीन अवकाश को तीन दिनों के लिए बढ़ा दिया है.

ओडिशा में मानसून पहुंचने के बावजूद राज्य की राजधानी समेत 9 स्थानों का तापमान 40 डिग्री सेल्सियस से ज्यादा दर्ज किया जा रहा है.

वहीं हिमाचल प्रदेश के कई स्थानों पर जमकर बारिश हुई है. भारी बारिश की वजह से हवा में मौजूद धूल के कण नीचे बैठ गए. स्थानीय मौसम विभाग के निदेशक मनमोहन सिंह ने बताया कि बारिश के बाद दृश्यता बढ़ने की उम्मीद थी लेकिन धुंध के कारण यह कम रही.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here