पुलिस की मौजूदगी में पीट-पीटकर हत्या फिर शव को घसीटा, यूपी पुलिस ने मांगी माफी, 3 पुलिसकर्मी सस्‍पेंड

0
140

लखनऊ: यूपी के हापुड़ के पिलखुआ में इसी हफ़्ते भीड़ ने एक शख्स की पीट-पीटकर हत्या कर दी. हैरानी की बात ये थी कि ये सब पुलिस की मौजूदगी में हुआ. उत्तर प्रदेश पुलिस ने अब इस घटना पर खेद जताया है और उन तीन पुलिसकर्मियों को ऑफ ड्यूटी कर दिया है जिनके सामने लोग पीड़ित को घसीटते हुए ले जा रहे थे. यूपी पुलिस का दावा है कि जो तस्वीर आई है वो पुलिस के तुरंत पहुंचने के बाद की है. एंबुलेंस नहीं होने की वजह से उसे तुरंत अस्पताल ले जाने की कोशिश की गई. हालांकि पुलिस को मानवीय तरीके से काम करना चाहिए था.
पुलिस ने बताया कि था पिलखुआ कोतवाली क्षेत्र के बझेड़ा खुर्द गांव में सोमवार शाम एक मामूली विवाद को लेकर कुछ ग्रामीणों ने दो लोगों को को पीट-पीटकर अधमरा कर दिया था, जिसमें से एक व्यक्ति की मौत हो गई. उन्होंने बताया कि दोनों घायलों को गंभीर हालत में एक नजदीकी अस्पताल में भर्ती कराया गया. वहां कासिम नाम के एक व्यक्ति की इलाज के दौरान मौत हो गयी, जबकि गंभीर रूप से घायल एक अन्य व्यक्ति समयुद्दीन का इलाज चल रहा है. पिलखुवा डीएसपी पवन कुमार ने बताया कि मोटरसाइकिल की टक्कर के चलते दो पक्षों में विवाद हो गया था, जिसके चलते आरोपियों ने मोटरसाइकिल सवार दो लोगों की पिटाई कर दी थी.

मध्यप्रदेश की शिवराज सिंह सरकार खरीदेगी 5 रुपये लीटर गौ मूत्र!

इस मामले में 25 लोगों को नामजद किया गया है और दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है और मामले की जांच जारी है. उन्होंने बताया कि गौकशी की अफवाह गलत थी. यह माहौल बिगाड़ने की साजिश थी, जिसे पुलिस ने नाकाम कर दिया. मामले की जांच की जा रही है. पीड़ित परिवार का कहना है कि गोकशी के शक में यह हत्‍या हुई है. परिवार का दावे को हिंसा के बाद जारी एक वायरल वीडियो से पुष्टि होती है. एक मिनट के वीडियो में कसीम मैदान में लेटा हुआ है और उसके कपड़े फटे हुए हैं. वह दर्द की वजह से चिल्‍ला रहा है और हमलावरों से पीछे हटने और पानी देने को कह रहा है.

इस वीडियो में सुनाई दे रहा है एक आदमी हमलावरों से कह रहा है, तुमने उसे मारा है, उस पर हमला किया है, अब बस करो, कृपया समझो इसके क्‍या परिणाम होंगे. वहीं एक और आवाज सुनाई देती है जिसमें एक शख्‍स कह रहा है कि अगर हम दो मिनट के भीतर नहीं पहुंचते, तो गाय को कत्ल कर दिया गया. वहीं तीसरा आदमी क्‍या रहा है, वह एक कसाई है. कोई उससे पूछता है कि वह एक बछड़े को मारने की कोशिश क्यों कर रहा था? वहीं कसीम जमीन पर गिरा हुआ है और भीड़ से कोई शख्‍स उसे पानी नहीं देता है. पुलिस का कहना है कि समयुद्दीन के परिवार ने जो एफआईआर दर्ज कराई है उसमें गोकशी की बात नहीं कही है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here