दक्षिण अफ्रीका को दूसरा झटका देने को तैयार टीम इंडिया

0
79

सेंचुरियन, पीटीआई। कप्तान फाफ डु प्लेसिस की चोट से आहत हुई दक्षिण अफ्रीकी टीम को टीम इंडिया सेंचुरियन में खेले जाने वाले दूसरे वनडे में दोहरी चोट पहुंचाने के लिए तैयार है। दोनों टीमों के बीच छह वनडे मैचों की सीरीज का दूसरा मैच रविवार को सेंचुरियन में खेला जाएगा।

मेहमान टीम ने पहले वनडे में दक्षिण अफ्रीका को छह विकेट से शिकस्त देकर डरबन में अपनी पहली वनडे जीत के साथ सीरीज में 1-0 की बढ़त हासिल की थी। इस हार के साथ ही घरेलू मैदान पर प्रोटियाज के 17 मुकाबलों के विजयक्रम पर ब्रेक भी लग गया जो फरवरी 2016 में इंग्लैंड के खिलाफ शिकस्त के बाद शुरू हुआ था। डरबन वनडे के दौरान फाफ डु प्लेसिस की अंगुली में चोट लगी थी और वह वनडे व टी-20 सीरीज से बाहर हो गए हैं। दूसरे वनडे में दक्षिण अफ्रीकी टीम की कमान ओपनर मार्करैम संभालेंगे। इससे पहले दक्षिण अफ्रीका को धाकड़ बल्लेबाज एबी डिविलियर्स भी अंगुली की चोट के कारण शुरुआती तीन वनडे से बाहर हो गए थे।

यह भी पढ़ें
फाफ की जगह बहरदीन : फाफ की जगह दक्षिण अफ्रीकी टीम में फरहान बहरदीन को बुलाया गया है जिन्हें पहले 2019 विश्व कप की तैयारियों को ध्यान में रखकर जोंडो की वजह से नजरअंदाज कर दिया गया था। जोंडो को पहले वनडे में खेलने का मौका नहीं मिल सका और अब उम्मीद की जा रही है कि आगे भी बहरदीन को ही मौजूदा हालातों को ध्यान में रखकर उनके ऊपर तरजीह दी जाएगी। बहरदीन आखिरी बार अक्टूबर 2017 में बांग्लादेश के खिलाफ खेलते नजर आए थे। उधर दक्षिण अफ्रीका के घरेलू क्रिकेट में तीसरे सबसे ज्यादा रन बनाने वाले विकेटकीपर बल्लेबाज हेनरिक क्लासेन को क्विंटन डि कॉक के बैकअप के तौर पर टीम में शामिल किया गया है। जरूरत पड़ी तो डिकॉक को अंतिम-11 से बाहर भी किया जा सकता है।

रैकिंग के खेल पर नजर : दक्षिण अफ्रीका की परेशानियां यहीं खत्म नहीं होती। अगर सेंचुरियन में मेहमान टीम मेजबानों पर 2-0 की बढ़त ले लेती है तो फिर दक्षिण अफ्रीका को अपनी नंबर वन की वनडे रैंकिंग फिलहाल के लिए गंवानी पड़ेगी। वहीं अगर भारत ने सीरीज को 4-2 से अपने नाम कर लिया तो फिर वह अफ्रीकी टीम को पीछे छोड़ते हुए नंबर वन का दावा और मजबूत कर लेगा। फिलहाल हालात भारत के पक्ष में हैं। तीसरे टेस्ट में जीत के बाद भारत ने उस क्रम को पहले वनडे में भी बरकरार रखा। उधर दक्षिण अफ्रीका के दूसरे मैदानों की अपेक्षा में सेंचुरियन में भारत का रिकॉर्ड अच्छा रहा है। यहां भारत ने अपने खेले 11 मुकाबलों में से चार जीते हैं जबकि पांच में उसे हार झेलनी पड़ी है। 2003 के विश्व कप में पाकिस्तान के खिलाफ उसकी इस मैदान पर मिली जीत बेहद खास रही। वहीं दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ उसे सेंचुरियन में खेले पांच वनडे में से दो में जीत और इतने में ही हार मिली है। हालांकि इस मैदान पर भारत को प्रोटियाज टीम के खिलाफ आखिरी जीत 2001-02 में त्रिकोणीय सीरीज में मिली थी। इसके बाद भारत को यहां 2006-07 और 2010-11 के दौरों पर एक-एक मुकाबलों में हार मिली। वहीं 2013-14 में आखिरी बार इस मैदान पर खेला गया मैच बारिश की वजह से नहीं हो सका था।

भारतीय टीम में बदलाव की संभावना नहीं : टीम इंडिया में बदलाव की संभावना कम ही है क्योंकि चौथे नंबर पर ही प्रयोग की संभावना थी लेकिन वह भी अजिंक्य रहाणे ने डरबन में 86 गेंदों पर 79 रन की पारी खेलकर खत्म कर दी। तीसरे टेस्ट के दौरान सेंचुरियन की विकेट ने भारतीय उपमहाद्वीप की विकेट की तरह व्यवहार किया था जहां अफ्रीकी टीम ने 135 रनों की जीत हासिल की थी। ऐसे में यहां स्पिनरों को मदद मिल सकती हैं। ऐसे में एकबार फिर यजुवेंद्र चहल और कुलदीप यादव के सामने दक्षिण अफ्रीकी बल्लेबाजों की परीक्षा होगी।
टीमें :

भारत- विराट कोहली (कप्तान), शिखर धवन, अजिंक्य रहाणे, रोहित शर्मा, श्रेयस अय्यर, मनीष पांडे, दिनेश कार्तिक, केदार जाधव, एमएस धौनी (विकेटकीपर), हार्दिक पांड्या, यजुवेंद्र चहल, कुलदीप यादव, जसप्रीत बुमराह, मुहम्मद शामी, शार्दुल ठाकुर।

दक्षिण अफ्रीका- हाशिम अमला, क्विंटन डि कॉक (विकेटकीपर), जेपी डुमिनी, इमरान ताहिर, मार्करैम, डेविड मिलर, मोर्नी मोर्केल, क्रिस मॉरिस, लुंगी, एंदिल फेलुक्वायो, कैगिसो रबादा, तबरेज शम्सी, जोंडो, फरहान बहरदीन, हेनरिक क्लासेन।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here