जोधपुर: स्टीफन हॉकिंग की तरह है पिता की हालत, बेटे ने नौकरी छोड़ घर में ही बनाया ICU

0
172

नई दिल्ली: राजस्थान के जोधपुर में अपने 57 साल के पिता की सेवा करने के लिए एक बेटे ने अपनी सरकारी नौकरी छोड़ दी और घर के एक कमरे को ही आईसीयू बना दिया. दरअसल, 57 वर्षीय मदनलाल सेन मोटर न्यूरॉन बीमारी से ग्रसित हैं, ये वही बीमारी है जिससे भौतिक विज्ञानी स्टीफन हॉकिंग पीड़ित हैं. इस बीमारी में पूरा शरीर पैरालाइज्ड हो जाता है. व्यक्ति सिर्फ अपनी आंखों के जरिए ही इशारों में बात कर पाता है.

दो साल पहले तक सब ठीक था
दो साल पहले तक मदनलाल सेन बिल्कुल स्वस्थ थे. एक दिन अचानक उनके दाहिने हाथ ने काम करना बंद कर दिया. हाथ धीरे-धीरे पतला होने लगा. मदनलाल के बेटे सुरेंद्र सेन और भुवनेश सेन उन्हें इलाज के लिए कोटा के राजस्थान आयुर्वेदिक थैरेपी दिलवाई. उन्हें वहां 20 दिनों तक रखा गया, लेकिन कोई फर्क नहीं पड़ा. उन्हें सास लेने में भी दिक्कत होने लगी.

रीढ़ की हड्डी के सैंपल से सामने आई बीमारी
मदनलाल को आगे के इलाज के लिए जोधपुर ले जाया गया. डॉक्टरों ने जांच के बाद उन्हें न्यूरोलॉजिस्ट को दिखाने को कहा. बाद में न्यूरोलॉजी के डॉक्टर को दिखाया तो उन्होंने दिल्ली ले जाने के कहा, लेकिन यहां भी कोई फायदा नहीं हुआ. बाद में बड़े बेटे सुरेंद्र सेन के पीजीआई चंडीगढ़ में पदस्थ एक परिचित ने उन्हें पिता को वहां लाने के लिए कहा. 5 दिन पीजीआई में उन्हें इमरजेंसी में रखा गया, जहां रीढ़ की हड्डी का सैंपल लेकर जांच की तो पता चला कि मदनलाल को एक रेयर बीमारी है जिसके मोटर न्यूरॉन कहा जाता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here