इसलिए 61 के होकर भी 16 के दिखते हैं अनिल कपूर

0
232

ये 60 साल पार कर चुके हैं, लेकिन इन्हें देखकर अब भी सिर्फ एक ही शब्द जुबां पर आता है- झक्कास. समझ तो आप गए ही होंगे कि यहां अनिल कपूर की बात हो रही है. बात इसलिए हो रही है कि क्योंकि आज बॉलीवुड के इस मिस्टर इंडिया का जन्मदिन है और वो पूरे 61 साल के हो गए हैं. ऐसे में सबसे पहले सवाल तो यही जेहन में आता है कि उनकी सेहत का राज क्या है और फिर ये भी कि आने वाले दिनों किस अवतार में दिखने वाले हैं अनिल कपूर. इन्हीं सवालों के जवाब तलाशते हुए उनके अब तक के सफर पर एक नजर- -अनिल कपूर एक मध्यमवर्गीय परिवार से आते हैं. वह मुंबई से सटे चैंबूर में पले-बढे हैं. उनके पिता सुरिंदर कपूर भी फिल्म प्रोड्यूसर थे, फिर भी फिल्मों में करियर बनाने के लिए अनिल को अपने हिस्से का एक अलग ही संघर्ष करना पड़ा. -बताया जाता है कि जब पहली बार अनिल अपने परिवार को लेकर मुंबई आए थे, तो उनकी आर्थिक स्थिति बहुत खराब थी. यहां तक कि उन्हें पैसों के लिए शोमैन राज कपूर के गैराज में भी काम करना पड़ा था. -शायद ही इस बात पर किसी को यकीन हो कि एक समय उन्हें पुणे फिल्म इंस्टीट्यूट में दाखिला देने से भी मना कर दिया गया था. वह रिटन एग्जाम में फेल हो गए थे. -इन सब बातों का उनके करियर पर कोई फर्क नहीं पड़ा. उन्हें लाइमलाइट में आने में बेशक काफी देर लगी, लेकिन जब वो आए तो अब तक बने हुए हैं. -अनिल कपूर ने उमेश मेहरा की फिल्म हमारे तुम्हारे से डेब्यू किया था. हम पांच और शक्ति जैसी फिल्मों में सपोर्टिंग रोल करने के बाद उन्हें पहला बड़ा ब्रेक मिला 1983 में आई फिल्म वो सात दिन से. -1984 में आई यश चोपड़ा की मशाल से पहचान मिली. शेखर कपूर की साइ-फाइ फिल्म मिस्टर इंडिया ने इन्हें दिलवाया बेस्ट सपोर्टिंग एक्टर का फिल्मफेयर अवॉर्ड. -मिस्टर इंडिया से जहां अनिल कपूर घर-घर में पॉपुलर हो गए, वहीं इस बात के पूरे चांस थे कि ये फिल्म उन्हें मिलती ही न. ये रोल उनके लिए लिखा ही नहीं गया था. बताया जाता है कि मिस्टर इंडिया का रोल अमिताभ बच्चन को ध्यान में रखकर लिखा गया था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here