इन लोगों को मुफ्त में मिलेंगे रिलायंस जियो सिम, असीमित डाटा के साथ कॉलिंग भी होगी मुफ्त

0
23

इन लोगों को मुफ्त में मिलेंगे रिलायंस जियो सिम, असीमित डाटा के साथ कॉलिंग भी होगी मुफ्त

आए दिन रिलायंस जियो को लेकर खबरें आती रहती हैं। 2016 में जबसे रिलायंस ने जियो अपनी 4G सेवा शुरू की है तबसे कंपनी कभी अपनी उपलब्धियों के तो कभी अपने आकर्षक ऑफर्स के कारण सुर्खियों में छाई रहती है। रिलायंस जियो को लेकर एक ऐसी ही बड़ी खबर हाल के दिनों में सामने आई है।

दरअसल रिलायंस जियो को भारतीय रेल का ठेका मिल गया है। यह ठेका पहले भारती एयरटेल के पास था। ठेके के तहत जो लोग भारतीय रेल में अपनी सेवाएं दे रहे हैं, उन्हें 1 जनवरी 2019 से रिलायंस जियो के नए कनेक्शन दिए जा रहे हैं। रिलायंस जियो और रेलवे की इस साझेदारी से भारतीय रेलवे के फोन बिल में तकरीबन 35 प्रतिशत की कमी आएगी।क्योंकि यह बिल रेलवे के कर्मचारियों को नहीं बल्कि भारतीय रेल को खुद भरना पड़ता है इसलिए यह कहना गलत नहीं होगा कि इस डील से भारतीय रेल को करोड़ों का फायदा पहुंचेगा।

इस खबर के बारे में और ज़्यादा जानकारी देने से पहले आपको बता दें कि हम हर रोज आपके काम की ऐसी ही खबरें लेकर आते रहते हैं, ऐसे में अगर आपने हमें अभी तक फॉलो नहीं किया है तो हमें तुरंत फॉलो करें और खबर पसंद आने पर इसे लाइक और शेयर ज़रूर करें।

रेलवे बोर्ड की मानें तो रेलटेल (रेल क्षेत्र के सार्वजनिक उपक्रम) को भारतीय रेलवे के लिए नई सीयूजी योजना को अंतिम रूप देने का ज़िम्मा सौंपा गया था, जो अब पूरा हो चुका है। इस साझेदारी के तहत रेलवे में काम करने वाले कर्मचारियों को नया रिलायंस जियो कनेक्शन दिया जा रहा है। इस नए कनेक्शन में कर्मचारियों को हर महीने हाई-स्पीड डाटा के साथ असीमित कॉल्स की सुविधा भी दी जा रही है। 2019 से पहले की बात करें तो पिछले 6 सालों से भारतीय रेल अपने कर्मचारियों के लिए भारती एयरटेल से सेवाएं ले रही थी जो 31 दिसंबर 2018 को ख़त्म हो गई थी।

मौजूदा समय में भारतीय रेल ने अपने 1.95 लाख कर्मचारियों को मोबाइल कनेक्शन के रखे हैं जिसका सालाना बिल करीब 100 करोड़ रूपए आता है। अब रिलायंस ने भारतीय रेल को 3 तरह के प्लान्स दे रही है जिन्हें भारतीय रेल ने अपने कर्मचारियों में उनके समूह के हिसाब से बाट दिया है। सबसे पहला समूह है वरिष्ठ अधिकारियों का जो भारतीय रेल के कुल कर्मचारियों में 2 प्रतिशत हैं। इन्हें 125 रूपए मासिक का प्लान दिया गया है जिसमें उन्हें 60 जीबी हाई स्पीड डाटा के साथ-साथ असीमित कॉलिंग मिल रही है।

अगले नंबर पर आते हैं संयुक्त सचिव के अधिकारी। इनकी संख्या 26 प्रतिशत है और इन्हें 99 रूपए मासिक का प्लान मिला है जिसमें 45 जीबी डाटा और कॉलिंग मिलती है। इसके बाद आते हैं समूह सी कर्मचारी जिनकी संख्या 72 प्रतिशत है। इन्हें 67 रूपए का मासिक शुल्क वाले प्लान जिसमें 30 जीबी डाटा मिलता है, के साथ 49 रूपए का एसएमएस प्लान भी दिया जाएगा। हालांकि यह बिल का भुगतान कर्मचारी नहीं बल्कि भारतीय रेल खुद करेगी।

हमें उम्मीद है कि आपको यह खबर पसंद आई होगी। इस खबर के बारे में अपनी राय, अपने सवाल या सुझाव कमेंट सेक्शन में लिख कर हमें ज़रूर बताएं। साथ ही अगर अपने हमें अभी तक फॉलो नहीं किया है तो हमें तुरंत फॉलो करें और खबर पसंद आने पर इसे लाइक और शेयर करना न भूलें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here